Followers

Friday, 21 December 2018

बिन मुस्कान

मुस्कान

बिन मुस्कान रूप लगे
ज्यों कागज के फूल
देखन में सुंदर लगे
बिन सौरभ निर्मूल।

होठ बिन मुस्कान के
ज्यों बिना चाँद के व्योम
सूने सूने  हैं लगत
ज्यों बिना पात के द्रुम।

खुशी आधी बिन मुस्कान
ज्यों बिन नीर पुष्कर
भाल न अगर मयूर पंखी
लगे अधूरे  मुरलीधर।

स्वागत फीका सा लगे
जब ना लब पर मुस्कान
बिन बिंदी दुल्हन ना सजे
बिना नीर ना भाऐ  घन।

बिन मुस्कान ओ रूपसी
ज्यों बिन ज्योति के आंख
बिन बरखा के सावन
बिन तारों के रात।

        कुसुम कोठारी।

18 comments:

  1. शुभ प्रभात सखी
    वाह !! बेहतरीन रचना 👌
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सखी सस्नेह आभार आपका।

      Delete
  2. बेहद सुंदर भावपूर्ण रचना सखी

    ReplyDelete
  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक २४ दिसंबर २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह,आभार
      अवश्य उपस्थित तो निश्चित है।

      Delete
  4. जी दी बेहद सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार शशि भाई सदा उत्साह बढाते रहें।

      Delete
  5. बहुत सुन्दर कुसुम जी,
    आप यूँ ही मुस्कान बिखेरती रहिए और साथ में किसी रोते हुए बच्चे को हंसाइए भी -
    घर से मस्जिद है बहुत दूर, चलो यूँ कर लें,
    किसी रोते हुए बच्चे को, हंसाया जाए.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सा आभार सर आपकी सराहना सब से अलग और लेखन को प्रेरित करती होती है। आपकी सलाह भी सच जीवन मूल्यों का प्रतिरूप है।
      सादर।

      Delete
  6. बहुत लाजवाब....
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत स्नेह भरा आभार सुधा जी।

      Delete
  7. बहुत- बहुत प्यारी... रचना बधाई हो कुसुम जी , स्नेह सखी

    ReplyDelete
    Replies
    1. ढेर ढेर सा स्नेह आभार सखी सराहना और उत्साह वर्धन के लिये।

      Delete
  8. बहुत सुन्दर ...
    मुस्कान ही है जो सुन्दरता प्रदान करती है मुख को ... जीवन डाल देती है कांतिहीन चेहरे में ... हर छंद बेजोड़ है रचना का ...

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत सुन्दर आपकी प्रतिपंक्तियां ।
    सादर आभार सुंदर भावात्मक प्रतिक्रिया के लिये।
    सादर।

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अर्थपूर्ण एवं सरल दोहे। अच्छी रचना है। मुस्कुराते रहिए आप भी, मेरा स्नेह।

    ReplyDelete
  11. आप आते रहें हम मुस्कुराते ही मिलेगें प्रिय मीना जी ।सादर आभार इस स्नेह का।

    ReplyDelete