Followers

Wednesday, 9 June 2021

लो आया नया विहान


 लो आया नया विहान ।


प्रकृति लिये खड़ी कितने उपहार, 

चाहो तो समेट लो अपनी झोली में,

अँखिंयों की पलकों में ,

दिल की कोर में ,साँसों की सरगम में ।

लो आया नया विहान।।


देखो उषा की सुनहरी लाली कितनी मन भावन ,

उगता सूरज ,ओस की शीतलता

पंक्षियों की चहक ,फूलों की महक,

भर लो अंतर तक ,कलियों की चटक ।

लो आया नया विहान।।


कोयल की कुहूक मानो कानो में मिश्री घोलती ,

भँवरे की गुँजार ,नदियों की कल-कल,

सागर में प्रभंजन ,लहरों की प्रतिबद्धता ,

जो कर्म का पाठ पढाती बंधन में रह के भी ।

लो आया नया विहान।।


झरनों का राग,पहाड़ों की अचल दृढ़ता ,

सुरमई साँझ का लयबद्ध संगीत ,

नीड़ को लौटते विहंग ,अस्त होता भानु ,

निशा के दामन का अँधेरा कहता।

लो आया नया विहान।।


गगन में इठलाते मंयक की उजास भरती रोशनी ,

किरणों का चपलता से बिखरना ,

तारों की टिम-टिम ,दूर धरती गगन का मिलना,

बादलों की हवा में उडती डोलियाँ ।

लो आया नया विहान।।


बरसता सावन , मेघों का घुमड़ना, 

तितलियों की अपरिमित सुंदरता, 

न जाने क्या-क्या जिनका कोई मूल्य नही चुकाना, 

पर जो अनमोल भी है अभिराम भी ।।

लो आया नया विहान ।।


            कुसुम कोठारी  'प्रज्ञा'

24 comments:

  1. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका शिवम् जी।

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 10 जून 2021 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका।
      पाँच लिकों पर रचना को शामिल करने के लिए।
      मैं उपस्थित रहूंगी।
      सादर।

      Delete
  3. प्रकृति के खूबसूरत प्रतिबिंबों को परिभाषित करती रचना का एक एक शब्द बहुत ही सुंदरता से अपने सजाया है,उत्कृष्ट सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सुंदर सार्थक टिप्पणी से सदा लेखन को नव उर्जा मिलती है जिज्ञासा जी ।
      बहुत बहुत आभार आपका।
      सस्नेह।

      Delete
  4. बरसता सावन , मेघों का घुमड़ना,

    तितलियों की अपरिमित सुंदरता,

    न जाने क्या-क्या जिनका कोई मूल्य नही चुकाना,

    पर जो अनमोल भी है अभिराम भी ।।

    लो आया नया विहान ।।---सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका संदीप जी।
      उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया।
      सादर।

      Delete
  5. प्रकृति अंगों का सुघट वर्णन

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बहुत बहुत आभार आपका , सार्थक प्रतिक्रिया से रचना प्रवाह मान हुई ।
      सादर।

      Delete
  6. कुदरत के साथ जीने का तरीक़ा जिसने सीख लिया वह सदा आनंद में है, क्योंकि कुदरत कभी पुरानी नहीं होती, नित नवीन होती है

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका अनिता जी, सही कहा आपने प्रकृति के सान्निध्य में उत्कृष्ट सुख है बस महसूस करना होता है ।
      सस्नेह।

      Delete
  7. सुन्दर भाव पूर्ण रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका अनुपमा जी।
      उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया।
      सस्नेह।

      Delete
  8. सुन्दर भावपूर्ण गीत ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका दी बस ऐसे ही आशीर्वाद मिलता रहे ।
      सादर।

      Delete
  9. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका ओंकार जी , उत्साह वर्धन हुआ।सादर।

      Delete
  10. प्रकृति सुन्दरी जाने कितने रूप में हमारे सामने आती है
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका कविता जी, आपकी स्नेहिल उपस्थिति लेखन में नव उर्जा भर रही है, सादर सस्नेह।

      Delete
  11. बहुत बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका आलोक जी।
      उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया।
      सादर।

      Delete
  12. प्रकृति के अनेक रँगों को संत लिया ... हर रँग लाजवाब है ...
    नए विहान का स्वागत है ...

    ReplyDelete
  13. बहुत बहुत आभार आपका नासवा जी आपकी प्रतिक्रिया से रचना के भाव मुखरित हुए, उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया।
    सादर।

    ReplyDelete