Followers

Thursday, 10 May 2018

इंतजार, इज़हार, गुलाब....

इजहारे हाल कर बैठे, हाय रे हम ये क्या कर बैठे
दे के सुर्खरु गुलाबों का नजराना, कमाल कर बैठे।

छुपा छुपा था दिल का हाल, सरेआम कर बैठे
इंतजार रहता बेसब्री से उनका, ये भी ऐलान कर बैठे ।

वफा का आलम था दिल मे, वो वफा आम कर बैठे
छुपा था अब्र मे चांद, हटा  चिलमन दीदार कर बैठे।

ख्वाब होता तो छुपा रखते हकीकत थी , जिक्र कर बैठे
कोशिश थी चुप रहते, पर सब कुछ बयां कर बैठे।

देखा किये ख्वाबों मे जिसे, रुबरु आंखें चार कर बैठे
कभी ना की मयकशी , फिर ये कैसा नशा कर बैठे।
                             कुसुम कोठारी।

18 comments:

  1. वाह वाह ...लाजवाब

    दिल तो आखिर में दिल है
    इजहारे यार कर ही बैठे
    आज तो कमाल कर बैठे .
    रूबरू आँखें चार कर बैठे !
    वाह ....वाह ...वाह ..
    👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏
    😃😃😃😃😃😃😃

    ReplyDelete
  2. वाह क्या बात है। बहुत खूबसूरत रचना लिखी आप ने। बस दिल खुश हो गया। लाजवाब

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी वाह मन खुश कर गई सोच मे थी न जाने कैसी बनी है।
      आभार सखी।

      Delete
  3. प्यार हो और इजहार न हो ऐसा कैसे हो सकता है
    प्यार कहाँ छुपता है
    इजहारे हाल कर बैठे, हाय रे हम ये क्या कर बैठे
    दे के सुर्खरु गुलाबों का नजराना, कमाल कर बैठे।
    वाहवाह बहुत ही दिलकश....लाजवाब...
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुधा जी आभार आपका बहुत सा।

      Delete
  4. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक १४ मई २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. वाह वाह
    रचना में आप कमाल कर बैठे।

    मेरे एक शेर की तर्ज पर एक अद्भुत रचना पढ़वाने के लिए आभार।
    लिखते रहिएगा

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सादर आभार आपके शेर पर लिखी और आपने सराहा दी तो पुरस्कार ही है।
      पुनःआभार।

      Delete
  6. बहुत बढिया..
    हम तो होश ओ हवास ही खो बैठे।
    हर शब्द कमाल बस कमाल

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार। बहुत खूब सराहना का अंदाज भाया हमे ।

      Delete
  7. वाह!!कुसुम जी ,कमाल का सृजन !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आपके स्नेह का।

      Delete
  8. वाह !बेहद खूबसूरत अंदाजे बयाँ !

    ReplyDelete
  9. वाह दीदी जी लाजवाब बेहद खूबसूरत

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार आंचल।

      Delete
  10. बहुत ही सुंदर भाव संयोजन वाह्ह्ह्ह्ह

    ReplyDelete