Followers

Thursday, 26 July 2018

किस्मत क्या है!!

.           किस्मत क्या है!!

कर्मो द्वारा अर्जित लब्ध और प्रारब्ध ही किस्मत है...

            पूर्व कृत कर्मो से
               जो संजोया है
         वो ही विधना का खेल है
           जो कर्म रूप संजो के
               आया है रे प्राणी
                उस का फल तो
                 अवश्य पायेगा
                हंस हंस बाधें कर्म
                  अब रो रो उन्हें
                      छुडाये जा
                    भाग्य, नसीब,
                  किस्मत क्या है ?
                 बस कर्मो से संचित
                      नीधी विपाक
                      बस सुकृति से
                  कुछ कर्म गति मोड़
                    और धैर्य संयम से
                            सब झेल
                          साथ ही कर
                           कृत्य अच्छे
                    और कर नव भाग्य
                         का निर्माण ।

                          कुसुम कोठारी।

10 comments:

  1. नमन आप की लेखनी को
    एक सार्थक रचना .....लाजवाब !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके अतुल्य स्नेह का आभार सखी ।

      Delete
  2. सुंदर रचना कुसुम जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सा आभार ।

      Delete
  3. आध्यत्मिक ज्ञान ....नमन मीता
    तकदीर और तदबीर जब दोनों का होगा मेल
    कर्म गति तब गति पकड़ेगी यही है किस्मत का खेल

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह सुंदर व्याख्यात्मक प्रतिक्रिया ।
      सस्नेह आभार मीता ।

      Delete
  4. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक ३० जुलाई २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार ।
      मेरी उपस्थिति निश्चित है।

      Delete